रींगस से खाटू श्याम जी तक रेल लाइन मंजूर - Khatu Shyam Railway Station

रींगस से खाटू श्याम जी तक रेल लाइन मंजूर - Khatu Shyam Railway Station, इसमें खाटू श्याम जी रेलवे स्टेशन के बारे में जानकारी दी गई है।

Khatu Shyam Railway Station

सभी श्याम भक्तों के लिए खुशखबरी है कि जल्द ही रींगस से खाटू श्याम जी के लिए रेल सेवा शुरू होने वाली है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने खाटू कस्बे को रेल लाइन से जोड़ने के प्रस्ताव को पास कर दिया है। 

अब अगले तीन महीनों में सर्वे करने के बाद डीपीआर तैयार होगी और काम शुरू किया जाएगा। काम पूरा होने के बाद खाटू कस्बा रींगस कस्बे से रेल लाइन द्वारा जुड़ जाएगा।

बताया जा रहा है कि इस पूरे प्रोजेक्ट को पूरे होने में लगभग तीन वर्ष का समय लग सकता है। तीन वर्ष के पश्चात खाटू श्याम जी में वैष्णो देवी के पास कटरा जैसा रेलवे स्टेशन होगा।

पूरे देश से हो जाएगी खाटूश्यामजी की कनेक्टिविटी, Poore Desh Se Ho Jayegi Khatu Shyam Ji Ki Connectivity


खाटू श्याम जी कस्बे में रेलवे स्टेशन बन जाने के बाद इसकी कनेक्टिविटी पूरे देश से हो जाएगी जिसका सीधा लाभ श्याम बाबा के दर्शन के लिए आने वाले लाखों श्रद्धालुओं को मिलेगा।

जैसा कि हम जानते हैं कि रींगस कस्बे की कनेक्टिविटी सीधे जयपुर, अजमेर, उदयपुर, सीकर, दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों से पहले से ही है।

जब रींगस कस्बे का खाटू श्यामजी से रेल संपर्क हो जाएगा तब खाटू श्याम जी कस्बा भी देश के बड़े शहरों से सीधा जुड़ जाएगा।

खाटू के रेल लाइन से जुडने से क्या फायदा होगा?, Khatu Ke Rail Line Se Judne Se Kya Fayda Hoga?


खाटू श्याम जी का रेल लाइन से जुडने से देश भर के श्याम प्रेमियों को बड़ा फायदा होगा। सबसे पहला फायदा तो यह होगा कि श्याम भक्तों को खाटू श्याम जी तक सीधी रेल सेवा मिल जाएगी।

खाटू में रेलवे स्टेशन बन जाने के बाद देश के बड़े शहरों से खाटू श्याम जी के लिए सीधी रेल सेवा शुरू हो जाएगी जिसकी वजह से श्रद्धालुओं को टुकड़ों में यात्रा नहीं करनी पड़ेगी।

रेल से आने वाले श्रद्धालुओं को अभी सबसे पहले रींगस रेलवे स्टेशन पर उतरना पड़ता है, फिर यहाँ से बस या टैक्सी द्वारा रींगस से 18 किलोमीटर दूर खाटू श्याम जी के लिए जाना पड़ता है।

खाटू श्याम जी को रेलवे लाइन से जोड़ने की मांग थी पुरानी, Khatu Shyam Ji Ko Railway Line Se Jodne Ki Mang Thi Purani


खाटू श्याम जी को रेल लाइन से जोड़ने की मांग वर्षों पुरानी है। इसके लिए अभी कुछ समय पूर्व ही सीकर से सांसद सुमेधानन्द सरस्वती ने रेल मंत्री से मुलाकात कर रींगस से खाटू तक रेल लाइन डालने का आग्रह किया था।

खाटू श्याम जी में हर वर्ष आते हैं लाखों श्रद्धालु, Khatu Shyam Ji Me Har Varsh Aate Hain Lakhon Shraddhalu


धार्मिक आस्था के प्रमुख केंद्र खाटूश्यामजी में प्रतिवर्ष लगभग 70 लाख के आस पास श्रद्धालु श्याम बाबा के दर्शन के लिए आते हैं।

इन श्याम भक्तों के रींगस से खाटूश्यामजी तक के सफर को सुगम व सुरक्षित बनाने के लिए रींगस से खाटूश्यामजी तक नई रेल लाइन के सर्वे को मंजूरी प्रदान की गई है।

कैसा होगा खाटू श्याम जी रेलवे स्टेशन?, Kaisa Hoga Khatu Shyam Ji Railway Station?


रेलवे ने सांस्कृतिक धरोहर व धार्मिक आस्था के केंद्रों को रेल लाइन से जोड़ने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मिशन विरासत और विकास के तहत खाटू श्याम जी को रेल लाइन से जोड़ने की योजना में शामिल किया है।

श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या के कारण ऐसा माना जा रहा है कि खाटू श्याम जी में बड़ा रेलवे स्टेशन बनाया जाएगा। ऐसे कयास हैं कि खाटू श्याम जी रेलवे स्टेशन वैष्णो देवी के पास कटरा रेलवे स्टेशन जैसा बन सकता है।

चूँकि खाटू श्याम जी में हर साल लगभग 70 लाख के आस पास श्रद्धालु श्याम बाबा के दर्शन के लिए आते हैं, इसलिए रेलवे स्टेशन की डिजाइन भी इसी तरीके की बनाई जाएगी ताकि भविष्य में श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने पर भी कोई परेशानी नहीं आए।

लेखक, Writer

रमेश शर्मा {एम फार्म, एमएससी (कंप्यूटर साइंस), पीजीडीसीए, एमए (इतिहास), सीएचएमएस}

सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ें, Connect With Us on Social Media

हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें
हमें फेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें
खाटू श्याम के दर्शन के लिए हमारा व्हाट्सएप चैनल फॉलो करें

डिस्क्लेमर,  Disclaimer

इस लेख में शैक्षिक उद्देश्य के लिए दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। आलेख की जानकारी को पाठक महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

एक टिप्पणी भेजें

श्याम बाबा की कृपा पाने के लिए कमेन्ट बॉक्स में - जय श्री श्याम - लिखकर जयकारा जरूर लगाएँ और साथ में बाबा श्याम का चमत्कारी मंत्र - ॐ श्री श्याम देवाय नमः - जरूर बोले।

और नया पुराने