खाटू में रथ पर इस दिन यात्रा करेंगे बाबा श्याम - Khatu Shyam Rathyatra Date

खाटू में रथ पर इस दिन यात्रा करेंगे बाबा श्याम - Khatu Shyam Rathyatra Date, इसमें खाटू श्याम मंदिर से निकलनी वाली रथयात्रा के बारे में जानकारी है।

Khatu Shyam Rathyatra Date

अपने भक्तों को दर्शन देने के लिए एकादशी के दिन यानी गुरुवार को बाबा श्याम खाटू धाम में नगर भ्रमण पर निकलेंगे। बाबा अपनी हवेली से नीले घोड़े से सुसज्जित रथ पर सवार होकर शाही सवारी के रूप में खाटू नगरी की यात्रा करेंगे।

खाटू में लक्खी मेले में ग्यारस के दिन निकलती है रथयात्रा, Rath Yatra takes place on Gyaras in Lakkhi fair in Khatu


ध्यान रहे कि बाबा श्याम केवल फाल्गुन के महीने में लक्खी मेले के समय शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन ही भक्तों को दर्शन देने के लिए रथयात्रा के रूप में नगर भ्रमण पर निकलते हैं।

पूरे वर्ष में सिर्फ एक यही दिन होता है जब आप बाबा श्याम के दर्शन मंदिर के बाहर भी कर सकते हो। इस दिन के अलावा बाकी सभी दिन श्रद्धालुओं को बाबा के दर्शन के लिए मंदिर में जाना पड़ता है।

इस रथ यात्रा में हजारों की संख्या में भक्तजन नाचते गाते, गुलाल उड़ाते चलते हैं। इस दौरान भक्तों में रथ को एक बार छूने की होड़ मची रहती है।

ऐसा माना जाता है कि रथयात्रा के दौरान बाबा के रथ को छूने से बाबा का विशेष आशीर्वाद मिलता है और सभी बिगड़े काम बन जाते हैं।

खाटू रथयात्रा का ये है मार्ग, This is the route of Khatu Rath Yatra


श्याम रथयात्रा मंदिर से शुरू होकर विभिन्न मार्गों से होती हुई पुन: मंदिर पहुँचेगी। मंदिर से निकलकर बाबा का रथ, सुनारों का मोहल्ला, खातियों के मोहल्ले से होता हुआ अस्पताल चौराहे से पुराने बस स्टैन्ड होते हुए मुख्य बाजार में आएगा।

रथ यात्रा का मार्ग खाटूश्याम मंदिर प्रांगण - मिश्रा मोहल्ला - खातियों का मोहल्ला - अस्पताल चौराहा - पुराना बस स्टैन्ड - मुख्य बाजार है।

खाटू रथयात्रा में लुटाया जाता है प्रसाद का खजाना, Prasad treasure is looted in Khatu Rath Yatra


इसके साथ ही रथयात्रा में खजाने के रूप में बाबा के प्रसाद को लेने की होड़ मची रहती है। ध्यान रहे कि रथ यात्रा से पहले मंदिर कमेटी की तरफ से बाबा श्याम को 56 भोग अर्पित किए जाते हैं। 

56 भोग के लिए नए बर्तन खरीदे जाते हैं और इसे मंदिर परिसर में ही तैयार करवाया जाता है। इन बर्तनों को दोबारा काम में नहीं लिया जाता है। भोग के बाद इन्हें भक्तों और जरूरतमंद लोगों में बाँट दिया जाता है।

लेखक, Writer

रमेश शर्मा {एम फार्म, एमएससी (कंप्यूटर साइंस), पीजीडीसीए, एमए (इतिहास), सीएचएमएस}

सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ें, Connect With Us on Social Media

हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें
हमें फेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें
खाटू श्याम के दर्शन के लिए हमारा व्हाट्सएप चैनल फॉलो करें

डिस्क्लेमर,  Disclaimer

इस लेख में शैक्षिक उद्देश्य के लिए दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। आलेख की जानकारी को पाठक महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

एक टिप्पणी भेजें

श्याम बाबा की कृपा पाने के लिए कमेन्ट बॉक्स में - जय श्री श्याम - लिखकर जयकारा जरूर लगाएँ और साथ में बाबा श्याम का चमत्कारी मंत्र - ॐ श्री श्याम देवाय नमः - जरूर बोले।

और नया पुराने